न्याय की आस मॆं दर दर भटक रहा पिता।

2016-07-02 16:19:42.0

न्याय की आस मॆं दर दर भटक रहा पिता।

वूमेन टाइम्स न्यूज़ लखनऊ । बेटे की मौत की पोस्टमार्टम रिपोर्ट मॆं संदेह को लेकर एक पिता थाने से लेकर एस एस पी कार्यालय तक दर दर भटक रहा है।ज्ञात हो की 24 अप्रैल को हरिओम नगर नौबस्ता निवासी मायाराम पाल का बेटा मोहित पाल(17)अपने तीन दोस्तो दीपक तोमर राजा सिंह तथा मोहित चौरसिया के साथ घूमने गया था।पर देर रात तक मोहित पाल का कुछ पता नहीं चला।दोस्तो से पूछने पर भी कोई जानकारी नहीं मिली।परिवार वालों ने मडियाव थाने मॆं गुमशुदगी की सूचना दी।25 अप्रैल को गोमती नदी मॆं एक लाश दिखाई दी जिसकी शिनाख्त मायाराम पाल ने अपने पुत्र मोहित पाल के रूप मॆं की।मडियाव पुलिस को मोहित पाल के दोस्तों से पता चला की मोहित दोस्तों के साथ गोमती मॆं नहाने गया था।नहाते समय मोहित का पैर फिसल गया और वह गहरे पानी मॆं डूब गया।परिवार का कहना है की मोहित की हत्या की गयी है क्योंकि जब मोहित की मौत दोपहर मॆं डूबने के कारण हुई तो उन लोगों ने परिवार को सूचना क्यों नहीं दी।हालाँकि पोस्ट मार्टम रिपोर्ट मॆं भी डूबने के कारण मौत का जिक्र है। बाक्स पोस्टमार्टम रिपोर्ट भी संदेह के घेरे मॆं मायाराम का कहना है की जब मोहित की लाश बरामद हुई तब उसकी दायीं आँख और नाक से खून निकल रहा था।और पेट दबाने पर भी उसके मुँह से पानी नहीं निकला।जबकि डूबने पर पेट के अंदर पानी भर जाना चाहिये।चूँकि मोहित की लाश को दफनाया गया है इसी आधार पर मायाराम ने दुबारा पोस्टमार्टम कराये जाने की माँग की है।परिवार वालों ने सांसद से भी मदद माँगी।मायाराम का आरोप है की मडियाव पुलिस ने हत्या के मामले को दबाने का प्रयास किया है। बाक्स दोस्तों ने नहीं दी थी मोहित के डूबने की सूचना मोहित पाल की माता का कहना है की यदि मोहित दोपहर मॆं नदी मॆं डूबा था तो उसके दोस्तों ने पूछने पर यह क्यों कहा की मोहित उनके साथ नहीं था।और पुलिस के पूछने पर क्यों कहा की साथ मॆं नहाने गये थे।इन्ही संदेह के आधार पर परिवार वाले मामले की दुबारा जाँच को अधिकारियों के चक्कर लगा रहे है।बृजेन्द्र मौर्या

  Similar Posts

Share it
Top